जीवन की उलझी समस्याओं को सुलझाने के लिये हम सदैव आपके साथ हैं

LoGo
Touch with guruji        See us on Tv      Health cure  

Check your Energy     Mental health    Yoga 

Divine Sadhana           Meditation         

Kumbh 2021

Mrityunjay Yog
Foundation trust is a spiritual organisation.
Through meditation, yoga, psychology, energy science helps people boost their self confidence, self-reliance, morality, self-control and self image.
We motivate people for
self development and society development by organising mind, body, aura and energy chakras.
View more …

Get in touch:
Mrityunjay yog Foundation®

admin office: 2195 ground floor
Rajapark, pitampura
New delhi-110034
India
Contact: +91 9250500800
shivshiv1008@gmail.com

Follow us:

Free Online
मनोकामना पूर्ति
प्राण वर्षा समागमः

India,UK, United States, California, Michigan, Minnesota, Illinois, New Jersey, Texas, Virginia, Canada, France, Germany, Netherlands, Mexico, Nepal, Pakistan,  Singapore, Qatar, United Arab Emirates, South Africa आदि के असंख्य लोग रोज रात 9 बजे होने वाले आनलाइन प्राण वर्षा समागम का घर बैठे लाभ उठा रहे हैं।
आप भी आत्मा को शिवात्मा के रूप में जाग्रत करने  की इस अनूठी अध्यात्मिक प्रक्रिया का लाभ उठाकर जीवन उत्थान में सक्षम बन सकते हैं। समागम में निःशुल्क प्रवेश के लिये आगे दिये आनलाइन लिंक का उपयोग करें। या समागम हेल्पलाइन 9250500800 पर अपनी रिक्वेस्ट वट्सअप करें।

Online Classes
मंत्र संजीवनी विद्याः

  • सक्षम संजीवनी उपचारक अपने ही नही दूसरों के जीवन से भी समसयाओं को तिनकी की तरह उड़ा देते हैं।

व्यक्तित्व निर्माण, सामाजिक उत्थान और दुखों से छुटकारा। इसी उद्देश्य से महादेव द्वारा मंत्र संजीवनी विज्ञान की स्थापना की गई।
इसके द्वारा युगों से लोगों की उर्जा शक्ति प्रखर की जाती रही है। एनर्जी ठीक हो तो बड़ी से बड़ी समस्यायें तिनके की तरह उड़ जाती हैं। तन-मन-धन की सफलताओं के लिये मंत्र संजीवनी विद्या आप भी अपनायें और संजीवनी उपचारक बनें।

Stress management Free Online workshop

कोरोना के चलते लोगों में तनाव बहुत बढ़ गया है। जिससे Health-wealth-happiness पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है। तमाम लोग तो डिप्रेशन का शिकार हुए जा रहे हैं। तनाव प्रभावित लोगों को मानसिक बल देने के लिये मृत्युंजय योग की सीनियर साइकोलाजिस्ट कोमल सिंह परिहार के नेतृत्व में 21 march 2021 को 1.30 pm से 2 घंटे की फ्री आनलाइन वर्कशाप का आयोजन किया जा रहा है। आप भी इसका लाभ उठा सकते हैं। इसके लिये आगे लिंक क्लिक करके रजिस्ट्रेशन करा लें।

LR

Click for Registration

महाकुम्भ 2021: सूक्ष्म चेतना स्नानः

सिद्ध संतों के साथ ही कुम्भ में देवी देवताओं की भी अदृश्य उपस्थिति होती है। दुनिया भर से भक्त उनकी सकारात्मकता का पुण्य पाने आते हैं। समय और सुविधा हो तो आप आपको भी इसका लाभ उठाना चाहिये। जो लोग हरिद्वार के महाकुम्भ में नही पहुंच सकते उनके लिये मृत्युंजय योग द्वारा महाकुम्भ रुद्राभिषेक अनुष्ठान का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें आप घर बैठे हिस्सेदारी शामिल कर सकते हैं।
Online Registration…


प्रारब्ध मोचन साधनाः

बहुत बार देखने में आता है कि अवसर मिलने के बाद भी कुछ लोग परिस्थितियों का लाभ नही उठा पाते। पूजा पाठ, साधनायें भी फल नही दे पातीं। योग्यता क्षमता के बावजूद दूसरों से पिछड़ जाते हैं। उन्हें पारिवारिक सुख या तो मुश्किल से मिलता है या मिलकर भंग हो जाता है। धन और प्रतिष्ठा की स्थितियां बार बार बिगड़ती हैं। समझ में न आने वाले कारण दुखी करते हैं। जैसे भाग्य उनके लिये बना ही नही।
गहराई से जांचने पर पता चलता है उनके प्रारब्ध दुख दे रहे हैं। इस जनम में जो गलतियां उन्होंने की नहीं, उनका दंड भुगत रहे हैं। एेसे लोगों को प्रारब्ध मोचन साधना कर लेनी चाहिये। ताकि व्यक्तित्व निर्माण व सामाजिक उत्थान के रोड़े हटें और सफलता की राह खुले।
प्रारब्ध मोचन साधना में आनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिये आगे दिया लिंक यूज करें। रजिस्ट्रेशन के बाद साधना विधान मिलेगा। साथ ही सिद्धी हेतु गुरूजी साधक की इष्ट, मत्र व जप माला के साथ एनर्जी कनेक्टिविटी स्थापित करेंगे।
Registration… 

दिव्य साधनायेंः 
साधना एक बड़ा शब्द है। साधना से देवी देवताओं को अपने वश में कर सकते हैं. उन्हें अपने सम्मुख बुलाकर बैठा सकते हैं. उनसे बात कर सकते हैं. उनसे अपनी बात मनवा सकते हैं. अपना और संसार का कल्याण कर सकते हैं। सुखी जीवन के लिये साधना मार्ग युगों से अचूक सिद्ध होता आया है। इससे सूक्ष्म शरीर में सकारात्मक उर्जाओं का प्रवाह बढ़ता है। आभामंडल की सकारात्मकता मनोकामनायें पूरी कर ही देती है। आप भी इसका लाभ उठा सके हैं।
View more

“सुखी जीवन के लिये शिव को गुरू बनायें”