नवरात में सर्वकामना पूर्ति देवी साधना करें

09 अक्टूबर, 2018 मंगलवार
नवरात में सभी साधक सर्वकामना पूर्ति देवी मंत्र को सिद्ध कर लें.


WhatsApp Image 2018-10-07 at 6.54.44 PM
सभी अपनों को राम राम
इस बार नवरात में सभी साधक सर्वकामना पूर्ति देवी मंत्र को सिद्ध कर लें.
मंत्र….
आयुर्देहि धनम् देहि विद्या देहि महेश्वरी
समस्तम् अखिलाम् देहि, देहि मे परमेश्वरी

मां भगवती का ये मंत्र सुनिश्चित रूप से जीवन को खुशियों से भरने में सक्षम हैं. आयु, धन, ज्ञान सहित संसार की समस्त खुशियों को आकर्षित करके जीवन में ले आने वाला ये मंत्र खुद में चमत्कार से कम नही. जरूरत सिर्फ आपके थोड़े से विश्वास की है. थोड़ी लगन और थोड़ी मेहनत. बस, विश्वास अपने आप पर, लगन मंत्र जप पर, मेहनत अपनी उर्जाओं को जगाने पर.
ये मंत्र साधक की अवचेतन शक्ति को जाग्रत करके उसकी प्रोग्रामिंग करता है. जिससे साधक ब्रह्मांड में देवी शक्ति के भंडार के साथ जुड़ जाता है. और अपने जीवन में सभी तरह के सुख आकर्षित कर लेता है. ये मंत्र कुंडली जाग्रत करने में भी सक्षम है. यदि इसे शक्ति पोटली के समक्ष जपा जाये तो मंत्र का प्रभाव कई गुना बढ़ जाता है. साधक इसे जप कर देवी दर्शन कर लेते हैं.
विधान…
मै आपको इसके ग्रहस्थ जीवन के विधान को बताता हूं. जो सरल और त्वरित है.
मंत्र जप- प्रतिदिन दो घंटे
दिशा- उत्तर मुख
आसन- लाल-
दीपक- सरसों के तेल का
प्रसाद- दूध से बनी मिठाई
दक्षिणा- दो सुपारी

सुविधानुसार घर के मंदिर या किसी भी साफ सुथरे स्थान पर बैठें. शक्ति पोटली हो तो सामने स्थापित कर लें. दीपक जला लें. सुगंध कर लें. देवी मां का आवाह्न करके प्रसाद लगा दें. 5 मिनट ताली बजायें. इससे सूक्ष्म शरीर मंत्र जप की उर्जाओं को ग्रहण करने में सक्षम हो जाता है.
जिनके पास शक्ति पोटली है वे खुली आंखों से मंत्र जप करें. जप के दौरान पोटली क शीर्ष भाग को एकटक देखते रहें. इससे देवी सम्मोहन बढ़ता है.
बिना माला के मंत्र जप आरम्भ करें. दो घंटे लगातार मंत्र जप करें
यदि बीच में लघुशंका या दीर्घशंका के लिये उठना पड़े तो स्नान करके दोबारा बैठें.
मंत्र जप के दौरान खुद की भक्ति पर विश्वास बनाये रखें.
यदि जप के दौरान मन में भटकाव उत्पन्न हो तो सारा ध्यान मंत्र के शब्दों पर केंद्रित करें. और उनका अर्थ समझने की कोशिश करें.
मुझे पूरा विश्वास है कि आप द्वारा पूरा किया गया ये अनुष्ठान जीवन में देवी कृपा भर देगा. इससे अधिकांश साधक देवी दर्शन कर लेते हैं.
ध्यान रखें बिना किसी विशेष कारण के साधना अधूरी न छोड़ें. अधूरी साधना से अधपकी उर्जायें उत्पन्न होती हैं. जो जीवन को नकारात्मकता और अभाव से भर देती हैं.
जो लोग किसी वजह से साधना न कर सकें. वे नवरात में तैयार की गई देवी शक्ति पोटली अपने आवास या कार्यस्थल में स्थापित करके देवी कृपा प्राप्त कर सकते हैं.


15492295_341546236232131_9173194001008770865_nजो साधक शक्ति पोटली प्राप्त करना चाहा रहे है वे 9999945010 पर संपर्क करें.


नवरात्र में गुरूजी सभी साधको को नि:शुल्क समस्या समाधान देंगे और साधनाओ पर चर्चा भी करेंगे। जो साधक गुरूजी से मिलना चाहते है वे नि:शुल्क पंजीकरण करा ले. समय सांय 4 से 6

हेल्पलाइन 9999945010
सबका जीवन सफल हो, यही हमारी कामना है.
शिव शरण्

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s