थर्ड आई एक्टीवेशन साधना

दिल्ली आश्रम मे थर्ड आई एक्टीवेशन साधना
9 और 10 June


34453396_239843720118052_7671606146720858112_n.jpg9 और 10 जून को दिल्ली आश्रम में शिव प्रिया जी थर्ड आई साधना कराएगी. शिवप्रिया जी साधना में शामिल सभी लोगों के तीसरे नेत्र को जाग्रत करेगी. थर्ड आई एक्टिवेट करके दूसरों के बीते जीवन में घटी घटनाओं को जानना सिखायेगी. साधना मे सामिल लोग दूसरो के बीते जीवन मे जाकर वहा की घटनाओ का पता लगाने मे सक्षम होगे. थर्ट आई का उपयोग करके साधक उस घटना का कारण, उसकी तारीख, दिन और टाइम का भी पता लगा लेगे.

जब बीमारी, चोट या मन की ठेस ताजी हो तो उसे ठीक करना ज्यादा आसान होता है. पास्ट से जुडी घटनाओ को ठीक करना नामुनकिन सा होता है. ऊर्जा विज्ञान मे पास्ट की घटनाओ को ठीक करने की सक्षम विधि है. गुरुजी ने पास्ट में जाकर संजीवनी उपचार करने की सरल एव सटीक विधि का अनुसंधान किया है।
थर्ड आई को जाग्रत करके उससे काम लेना बहुत बड़ी अध्यात्मिक क्षमता वालों के वश की बात होती थी. इसमें सालों की अविचलित ध्यान- साधना की जरूरत पडती थी. गुरुजी ने महा संजीवनी रुद्राक्ष के जरिये थर्ड आई को एक्टिवेट करने की सरल विधि की खोज की है. ताकी व्याप्क रुप से साधक थर्ड आई को जाग्रत करके अपनी और दूसरो के पास्ट से जुडी घटनाओ की उर्जाओ ठीक कर सके.
देवदूतों की तरह क्षमतावान महा संजीवनी रुद्राक्ष न सिर्फ किसी साधक के तीसरे नेत्र को जगाकर उससे काम लेने की योग्यता देता है। बल्कि इसके माध्यम से साधक दूसरों के तीसरे नेत्र में प्रवेश कर वहा से बीते जीवन की सूचनायें लेने मे सक्षम है.

थर्ड आई एक्टिवेशन के लिए साधक तैयार हो जाये. सभी साधक अपना महासंजीवनी रुद्राक्ष लेके आये. जिनके पास महासंजीवनी रूद्राक्ष नही है, वे आश्रम से प्राप्त कर लें.
समय रहते सभी रजिस्ट्रेशन करा ले. रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है. अधिक जानकारी के लिए समपर्क करे.
8377919461, 9999945010

दिन:- 9 और 10 जून
समय:- दोपहर 12 बजे

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s